🔥 InvestingPro की ओर से प्रीमियम एआई-संचालित स्टॉक चयन अब 50% तक की छूटसेल को क्लेम करें

भारतीय रियल एस्टेट सेक्टर में 2025 तक 20 प्रतिशत बढ़ेगा एफडीआई : इंडस्ट्री

प्रकाशित 10/07/2024, 11:10 pm
© Reuters.  भारतीय रियल एस्टेट सेक्टर में 2025 तक 20 प्रतिशत बढ़ेगा एफडीआई : इंडस्ट्री
SIGC
-

नई दिल्ली, 10 जुलाई (आईएएनएस)। भारत में रियल एस्टेट सेक्टर तेजी से उभर रहा है और इसमें प्रत्यक्ष विदेशी निवेश 2025 तक बढ़कर 20 प्रतिशत तक पहुंच सकता है। इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स की ओर से बुधवार को यह जानकारी दी गई।एसोचैम के इवेंट में हरियाणा रेरा के सदस्य संजीव कुमार अरोड़ा ने कहा कि रियल एस्टेट क्षेत्र सबसे बड़ा रोजगार देने वाले सेक्टर के रूप में उभरा है और तेजी से हो रहे शहरीकरण, स्मार्ट सिटी, सभी के लिए घर और एफडीआई नियमों में ढील से इस क्षेत्र को और बूस्ट मिलेगा।

अरोड़ा ने कहा कि भारत सरकार की ओर से रेरा एक्ट, 2016 में लॉन्च किया गया था। इसका उद्देश्य सेक्टर में नियमित वृद्धि लाने के साथ पारदर्शिता लाना था। इस एक्ट के लागू होने के बाद से अब तक 1.25 लाख प्रोजेक्ट्स पूरे भारत में रेरा के तहत पंजीकृत हो चुके हैं।

सिग्नेचर ग्लोबल (इंडिया) के चेयरमैन और एसोचैम में रियल एस्टेट, हाउसिंग और अर्बन डेवलपमेंट के चेयरमैन, प्रदीप अग्रवाल ने कहा कि 2047 तक विकसित भारत के सपने को पूरा करने के लिए हाउसिंग और रियल एस्टेट सेक्टर को सहायता की आवश्यकता है। यह सेक्टर बड़ी संख्या में रोजगार पैदा करता है।

अग्रवाल ने आगे कहा कि हर परिवार को घर और नौकरी देना सरकार का विजन है। ऐसे में रियल एस्टेट सेक्टर की भूमिका अहम हो जाती है। रियल एस्टेट सेक्टर का मार्केट साइज 24 लाख करोड़ रुपये है और देश की जीडीपी में इसका योगदान 13.8 प्रतिशत का है।

सभी को अपना घर देने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत सरकार ने ग्रामीण और शहरी इलाकों में 3 करोड़ घर देने का फैसला किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के इस फैसले पर कहा कि हमारा यह निर्णय देश के हर नागरिक को बेहतर जिंदगी देने की हमारी प्रतिबद्धता को दिखाता है। आगे कहा कि सरकार विकास के साथ सामाजिक कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है।

--आईएएनएस

एबीएस/एसकेपी

नवीनतम टिप्पणियाँ

हमारा ऐप इंस्टॉल करें
जोखिम प्रकटीकरण: वित्तीय उपकरण एवं/या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेडिंग में आपके निवेश की राशि के कुछ, या सभी को खोने का जोखिम शामिल है, और सभी निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है। क्रिप्टो करेंसी की कीमत काफी अस्थिर होती है एवं वित्तीय, नियामक या राजनैतिक घटनाओं जैसे बाहरी कारकों से प्रभावित हो सकती है। मार्जिन पर ट्रेडिंग से वित्तीय जोखिम में वृद्धि होती है।
वित्तीय उपकरण या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेड करने का निर्णय लेने से पहले आपको वित्तीय बाज़ारों में ट्रेडिंग से जुड़े जोखिमों एवं खर्चों की पूरी जानकारी होनी चाहिए, आपको अपने निवेश लक्ष्यों, अनुभव के स्तर एवं जोखिम के परिमाण पर सावधानी से विचार करना चाहिए, एवं जहां आवश्यकता हो वहाँ पेशेवर सलाह लेनी चाहिए।
फ्यूज़न मीडिया आपको याद दिलाना चाहता है कि इस वेबसाइट में मौजूद डेटा पूर्ण रूप से रियल टाइम एवं सटीक नहीं है। वेबसाइट पर मौजूद डेटा और मूल्य पूर्ण रूप से किसी बाज़ार या एक्सचेंज द्वारा नहीं दिए गए हैं, बल्कि बाज़ार निर्माताओं द्वारा भी दिए गए हो सकते हैं, एवं अतः कीमतों का सटीक ना होना एवं किसी भी बाज़ार में असल कीमत से भिन्न होने का अर्थ है कि कीमतें परिचायक हैं एवं ट्रेडिंग उद्देश्यों के लिए उपयुक्त नहीं है। फ्यूज़न मीडिया एवं इस वेबसाइट में दिए गए डेटा का कोई भी प्रदाता आपकी ट्रेडिंग के फलस्वरूप हुए नुकसान या हानि, अथवा इस वेबसाइट में दी गयी जानकारी पर आपके विश्वास के लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं होगा।
फ्यूज़न मीडिया एवं/या डेटा प्रदाता की स्पष्ट पूर्व लिखित अनुमति के बिना इस वेबसाइट में मौजूद डेटा का प्रयोग, संचय, पुनरुत्पादन, प्रदर्शन, संशोधन, प्रेषण या वितरण करना निषिद्ध है। सभी बौद्धिक संपत्ति अधिकार प्रदाताओं एवं/या इस वेबसाइट में मौजूद डेटा प्रदान करने वाले एक्सचेंज द्वारा आरक्षित हैं।
फ्यूज़न मीडिया को विज्ञापनों या विज्ञापनदाताओं के साथ हुई आपकी बातचीत के आधार पर वेबसाइट पर आने वाले विज्ञापनों के लिए मुआवज़ा दिया जा सकता है।
इस समझौते का अंग्रेजी संस्करण मुख्य संस्करण है, जो अंग्रेजी संस्करण और हिंदी संस्करण के बीच विसंगति होने पर प्रभावी होता है।
© 2007-2024 - फ्यूजन मीडिया लिमिटेड सर्वाधिकार सुरक्षित