40% की छूट पाएं
नया! 💥 प्राप्त करें प्रोपिक्स जो रणनीति देखने के लिए जिसने S&P 500 को 1,183%+ से हराया है40% की छूट क्लेम करें

ईडी ने आय से अधिक संपत्ति मामले में हिमांशु किशोर और सौरव कुमार के खिलाफ जांच की तेज

प्रकाशित 16/02/2024, 02:32 am
अपडेटेड 15/02/2024, 09:15 pm
ईडी ने आय से अधिक संपत्ति मामले में हिमांशु किशोर और सौरव कुमार के खिलाफ जांच की तेज

नई दिल्ली, 15 फरवरी (आईएएनएस)। प्रवर्तन निदेशालय ने हिमांशु किशोर भाई त्रिवेदी और सौरव कुमार के खिलाफ धनशोधन अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। पटना की पीएमएलए अदालत ने खुद इस मामले का संज्ञान लिया था। गांधी मैदान पुलिस स्टेशन की तरफ से इस मामले में दर्ज एफआईआर के बाद ईडी द्वारा इसकी जांच शुरू की गई। आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत दोनों आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया था।

इसके बाद उक्त मामले में आरोपपत्र भी दाखिल किया गया, जिसमें आरोप लगाया गया कि भूमि अधिग्रहण के लिए सक्षम प्राधिकारी (सीएएलए) सह जिला भूमि अधिग्रहण अधिकारी (डीएलएओ) द्वारा 31.93 करोड़ के विसंगति पूर्ण लेन-देन किए गए।

यही नहीं विभिन्न प्रकार की सेल (NS:SAIL) कंपनियों के जरिए फंड की हेराफेरी की गई, मामले को संज्ञान में लेने के बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की और बाद में ईडी ने कार्रवाई का सिलसिला शुरू किया। ईडी ने अपनी जांच में विसंगतिपूर्ण लेन-देन के मामले में तीन लोगों सुमित कुमार, शशिकांत कुमार और मनु सिंह को चिन्हित किया गया।

इस मामले में ईडी की जांच के बाद सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। ईडी की जांच से पता चला कि कुल 31.93 करोड़ रुपये (लगभग) में से 8.77 करोड़ रुपये की धनराशि हिमांशु किशोर भाई त्रिवेदी के बैंक खाते के माध्यम से निकाली गई थी। इसके बाद ईडी ने उन्हें 13 दिसंबर 2023 को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

ईडी की जांच में खुलासा हुआ है कि 31.93 करोड़ के विसंगतिपूर्ण लेन-देन में से 5.34 करोड़ रुपए दूसरे बैंक खाते में ट्रांसफर कर दिया गया था। जांच में सामने आया है कि आरोपियों के साथ मिलकर रकम की हेराफेरी को अंजाम दिया गया।

बीते दिनों ईडी ने मेसर्स मोहन अलंकार ज्वैलर्स एंड कंपनी के ठिकानों पर छापेमारी की थी, जहां से 1.38 करोड़ की संपत्ति, जिसमें से 11 लाख 51,000 कैश और 1.26 करोड़ रुपए की ज्वेलरी, बरामद की गई थी। वहीं, 2 जनवरी 2024 को सौरव कुमार को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। फिलहाल, ईडी की जांच जारी है।

--आईएएनएस

एसएचके/एबीएम

नवीनतम टिप्पणियाँ

हमारा ऐप इंस्टॉल करें
जोखिम प्रकटीकरण: वित्तीय उपकरण एवं/या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेडिंग में आपके निवेश की राशि के कुछ, या सभी को खोने का जोखिम शामिल है, और सभी निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है। क्रिप्टो करेंसी की कीमत काफी अस्थिर होती है एवं वित्तीय, नियामक या राजनैतिक घटनाओं जैसे बाहरी कारकों से प्रभावित हो सकती है। मार्जिन पर ट्रेडिंग से वित्तीय जोखिम में वृद्धि होती है।
वित्तीय उपकरण या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेड करने का निर्णय लेने से पहले आपको वित्तीय बाज़ारों में ट्रेडिंग से जुड़े जोखिमों एवं खर्चों की पूरी जानकारी होनी चाहिए, आपको अपने निवेश लक्ष्यों, अनुभव के स्तर एवं जोखिम के परिमाण पर सावधानी से विचार करना चाहिए, एवं जहां आवश्यकता हो वहाँ पेशेवर सलाह लेनी चाहिए।
फ्यूज़न मीडिया आपको याद दिलाना चाहता है कि इस वेबसाइट में मौजूद डेटा पूर्ण रूप से रियल टाइम एवं सटीक नहीं है। वेबसाइट पर मौजूद डेटा और मूल्य पूर्ण रूप से किसी बाज़ार या एक्सचेंज द्वारा नहीं दिए गए हैं, बल्कि बाज़ार निर्माताओं द्वारा भी दिए गए हो सकते हैं, एवं अतः कीमतों का सटीक ना होना एवं किसी भी बाज़ार में असल कीमत से भिन्न होने का अर्थ है कि कीमतें परिचायक हैं एवं ट्रेडिंग उद्देश्यों के लिए उपयुक्त नहीं है। फ्यूज़न मीडिया एवं इस वेबसाइट में दिए गए डेटा का कोई भी प्रदाता आपकी ट्रेडिंग के फलस्वरूप हुए नुकसान या हानि, अथवा इस वेबसाइट में दी गयी जानकारी पर आपके विश्वास के लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं होगा।
फ्यूज़न मीडिया एवं/या डेटा प्रदाता की स्पष्ट पूर्व लिखित अनुमति के बिना इस वेबसाइट में मौजूद डेटा का प्रयोग, संचय, पुनरुत्पादन, प्रदर्शन, संशोधन, प्रेषण या वितरण करना निषिद्ध है। सभी बौद्धिक संपत्ति अधिकार प्रदाताओं एवं/या इस वेबसाइट में मौजूद डेटा प्रदान करने वाले एक्सचेंज द्वारा आरक्षित हैं।
फ्यूज़न मीडिया को विज्ञापनों या विज्ञापनदाताओं के साथ हुई आपकी बातचीत के आधार पर वेबसाइट पर आने वाले विज्ञापनों के लिए मुआवज़ा दिया जा सकता है।
इस समझौते का अंग्रेजी संस्करण मुख्य संस्करण है, जो अंग्रेजी संस्करण और हिंदी संस्करण के बीच विसंगति होने पर प्रभावी होता है।
© 2007-2024 - फ्यूजन मीडिया लिमिटेड सर्वाधिकार सुरक्षित