ब्रेकिंग समाचार
कोट्स
सभी इंस्ट्रूमेंट के प्रकार

कृपया अन्य खोज का प्रयास करें

Investing Pro 0
🚨 हमारा प्रो डेटा कमाई के मौसम के सच्चे विजेता को प्रकाशित करता है डेटा को एक्सेस करें

क्या आरबीआई को सरकारी बैंकों को विनियमित करने के लिए और अधिकार मिलेंगे?

शेयर बाजार 05 दिसम्बर 2022 ,15:45
सेव। सेव आइटम्स देखें।
यह लेख पहले से ही आपके सेव आइटम्स में सेव किया जा चुका है
 
© Reuters. क्या आरबीआई को सरकारी बैंकों को विनियमित करने के लिए मिलेंगे और अधिकार मिलेंगे?

नई दिल्ली, 5 दिसम्बर (आईएएनएस)। जब भारतीय बैंकों के शासन की बात आती है तो चीजे असंतुलित हो जाती हैं। उदाहरण के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) निजी बैंकों या विदेशी बैंकों को दिशा-निर्देश जारी कर सकता है, लेकिन पीएसबी को नहीं। क्या वित्त संबंधी स्थायी समिति इस पहेली का उत्तर दे सकती है?इस विसंगति की चर्चा तब हुई जब आरबीआई के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल ने मार्च 2018 में बैंकिंग नियामक शक्तियों को स्वामित्व तटस्थ होना चाहिए शीर्षक से एक भाषण में कहा कि आरबीआई बैंकिंग नियामक है, पीएसबी को विनियमित करने की शक्तियां सरकार के पास।

भारत सरकार बैंकिंग कंपनी (उपक्रमों का अधिग्रहण और हस्तांतरण) अधिनियम, 1970 के तहत पीएसबी को विनियमित करती है।

पटेल ने कहा था कि बैंकिंग विनियमन अधिनियम (1949) की धारा 51 स्पष्ट रूप से कहती है कि आरबीआई के पास पीएसबी में शासन के महत्वपूर्ण पहलुओं पर शक्तियां नहीं हैं।

आरबीआई किसी पीएसबी के अध्यक्ष, प्रबंध निदेशक या निदेशकों को नहीं हटा सकता। पीएसबी के मामले में केंद्रीय बैंक विलय या परिसमापन के लिए बाध्य नहीं कर सकता। पीएसबी को न तो शीर्ष बैंक से लाइसेंस की आवश्यकता होती है और न ही वह उनका लाइसेंस रद्द कर सकता है। इस मामले को संज्ञान में लेते हुए नियमन और शासन के इस पहलू को दुरुस्त करने की कार्रवाई पर विचार किया जा रहा है।

हालांकि, जुलाई 2018 में सरकार ने एक परस्पर विरोधी बयान में संसद को सूचित किया था कि आरबीआई के पास सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को विनियमित करने और पर्यवेक्षण करने के लिए व्यापक शक्तियां हैं।

सरकार के बयान ने आरबीआई की स्थिति का प्रतिकार किया कि केंद्रीय बैंक के पास पीएसयू बैंकों को विनियमित करने के लिए शक्तियों की कमी है, जिसमें बैंकों के बोर्ड और प्रबंधन को खारिज करना शामिल है।

राज्यसभा में एक प्रश्न के जवाब में केंद्र ने कहा था, आरबीआई की शक्तियां व्यापक हैं और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों सहित सभी बैंकों में उत्पन्न होने वाली विभिन्न स्थितियों से निपटने के लिए व्यापक हैं। आरबीआई के पास बैंक का निरीक्षण करने की शक्तियां हैं। इसके बहीखातों में सरकारी बैंकों के बोर्ड में एक नामित सदस्य होता है और बोर्ड के भीतर एक समिति का हिस्सा होता है जो बड़े ऋणों को मंजूरी देता है।

आरबीआई बैंकों के बोडरें पर अतिरिक्त निदेशकों की नियुक्ति कर सकता है, आरबीआई के पास सभी बड़े क्रेडिट एक्सपोजर के साथ-साथ केंद्रीय धोखाधड़ी रजिस्ट्री के लिए एक भंडार है, जहां बैंक 1 लाख रुपये से ऊपर की सभी धोखाधड़ी की रिपोर्ट करते हैं। इसके पास विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम के तहत शक्तियां भी हैं।

एक समृद्ध निजी क्षेत्र के बैंकिंग स्थान के बावजूद भारत में अधिकांश बैंकिंग परिसंपत्तियां सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के पास हैं, जो वित्तीय सेवा विभाग के तत्वावधान में हैं।

पिछले कुछ वर्षों में कई सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक घोटालों का पता चला है, जिसके कारण विशेषज्ञों ने नियंत्रण के दोहरेपन पर सवाल उठाया है।

--आईएएनएस

सीबीटी

क्या आरबीआई को सरकारी बैंकों को विनियमित करने के लिए और अधिकार मिलेंगे?
 

संबंधित लेख

टिप्पणी करें

टिप्पणी दिशा निर्देश

हम आपको यूजर्स के साथ जुड़ने, अपना द्रष्टिकोण बांटन तथा लेखकों तथा एक-दूसरे से प्रश्न पूछने के लिए टिप्पणियों का इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। हालांकि, बातचीत के उच्च स्तर को बनाये रखने के लिए हम सभी मूल्यों तथा उमीदों की अपेक्षा करते हैं, कृपया निम्नलिखित मानदंडों को ध्यान में रखें: 

  • स्तर बढाएं बातचीत का
  • अपने लक्ष्य की ओर सचेत रहे। केवल वही सामग्री पोस्ट करें जो चर्चा किए जा रहे विषय से संबंधित हो।
  • आदर करें। यहाँ तक कि नकारात्मक विचारों को भी सकारात्मक तथा कुशलतापूर्वक पेश किया जा सकता है।
  •  स्टैण्डर्ड लेखन शैली का उपयोग करें। पर्ण विराम तथा बड़े तथा छोटे अक्षरों को शामिल करें।
  • ध्यान दें: टिपण्णी के अंतर्गत स्पैम तथा/या विज्ञापनों के संदेशों को हटा दिया जायेगा।
  • धर्म निंदा, झूठी बातों या व्यक्तिगत हमलों से बचें लेखक या किसी अन्य यूजर की और।
  • बातचीत पर एकाधिकार न रखें।  हम आवेश तथा विशवास की सराहना करते हैं, लेकिन हम सभी को उनके विचारों को प्रकट करने के लिए एक मौका दिए जाने पर भी अटूट विश्वास करते हैं। इसलिए, सामाजिक बातचीत के अलावा, हम टिप्पणीकर्ताओं से उनके विचारों को संक्षेप में तथा विनम्रतापूर्वक रखने की उम्मीद करते हैं, लेकिन बार-बार नहीं जिससे अन्य परेशान या दुखी हो जायें। यदि हमें किसी व्यक्ति विशेष के बारे में शिकायत प्राप्त होती है जो किसी थ्रेड या फोरम पर एकाधिकार रखे, हम बिना किसी पूर्व सूचना के उन्हें साईट से बैन करने का अधिकार रखते हैं।
  • केवल अंग्रेजी टिप्पणियों की अनुमति है।

स्पैम तथा शोषण के अपराधियों को हटा दिया जायेगा तथा भविष्य में उन्हें Investing.com पर प्रतिबंधित कर दिया जायेगा।

अपने विचार यहाँ लिखें
 
क्या आप सच में इस चार्ट को डिलीट करना चाहते हैं?
 
पोस्ट
इसको भी पोस्ट करें:
 
सभी सलंग्न चार्ट को नए चार्ट से बदलें?
1000
नकारात्मक यूजर रिपोर्ट के कारण टिप्पणी करने की आपकी क्षमता को निलंबित कर दिया गया है। आपके स्टेटस की हमारे मोडेटरों द्वारा समीक्षा की जाएगी।
कृपया दोबारा टिप्पणी करने से पहले एक मिनट प्रतीक्षा करें।
आपकी टिपण्णी के लिए धन्यवाद। कृपया ध्यान दें सभी टिप्पणियाँ लंबित हैं जब तक उन्हें हमारे मॉडरेटर्स द्वारा नहीं जांचा जाता। हो सकता है इसलिए हमारी वेबसाईट पर दिखाए जाने से पूर्व यह थोडा समय लें।
 
क्या आप सच में इस चार्ट को डिलीट करना चाहते हैं?
 
पोस्ट
 
सभी सलंग्न चार्ट को नए चार्ट से बदलें?
1000
नकारात्मक यूजर रिपोर्ट के कारण टिप्पणी करने की आपकी क्षमता को निलंबित कर दिया गया है। आपके स्टेटस की हमारे मोडेटरों द्वारा समीक्षा की जाएगी।
कृपया दोबारा टिप्पणी करने से पहले एक मिनट प्रतीक्षा करें।
टिप्पणी में चार्ट जोड़ें
ब्लॉक की पुष्टी करें

क्या आप सच में %USER_NAME% को ब्लॉक करना चाहते हैं?

ऐसा करके, आप और %USER_NAME% नहीं देख पाएंगे किसी अन्य के Investing.com की पोस्ट में से कोई भी।

%USER_NAME% को सफलतापूर्वक आपकी ब्लॉक सूची में जोड़ लिया गया है

क्योंकि आपने इस व्यक्ति को अनब्लॉक कर दिया है, आपको ब्लॉक को रिन्यू करने से पहले 48 घंटे प्रतीक्षा करनी होगी।

इस टिपण्णी को दर्ज करें

मुझे लगता है कि यह टिपण्णी:

टिप्पणी ध्वजांकित

धन्यवाद!

आपकी रिपोर्ट समीक्षा के लिए हमारे मॉडरेटर को भेजी गई है
गूगल के साथ जारी रखें
या
ईमेल के साथ साइन अप करें