प्रीमियम डेटा अनलॉक करें: 50% तक की छूट InvestingProसेल को क्लेम करें

द ग्रीनबिलियंस ने कचरे से ग्रीन हाइड्रोजन निकालने के लिए पुणे नगर निकाय से हाथ मिलाया

प्रकाशित 10/01/2023, 12:25 am
© Reuters.  द ग्रीनबिलियंस ने कचरे से ग्रीन हाइड्रोजन निकालने के लिए पुणे नगर निकाय से हाथ मिलाया
NG
-
BPCL
-
GAIL
-

नई दिल्ली, 9 जनवरी (आईएएनएस)। परामर्श, प्रबंधन और स्थायी पहलों को क्रियान्वित करने में विशेषज्ञता रखने वाली कंपनी द ग्रीनबिलियंस लिमिटेड (टीजीबीएल) ने बायोमास और नगरपालिका के ठोस कचरे से ग्रीन हाइड्रोजन निकालने के मकसद से भारत में पहला संयंत्र स्थापित करने के लिए पुणे नगर निगम (पीएमसी) के साथ अपने सहयोग की घोषणा की है।टीजीबीएल की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी वैरिएट पुणे वेस्ट टू एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड (वीपीडब्ल्यूटीईपीएल) 30 साल की अवधि तक हाइड्रोजन पैदा करने के लिए पुणे के 350 टीपीडी नगरपालिका कचरे का प्रबंधन और उपयोग करेगी।

इस परियोजना का उद्देश्य एक अग्रणी पहल के रूप में नगरपालिका के ठोस कचरे से स्वच्छ हाइड्रोजन निकालना है। कंपनी भविष्य में इसी तरह के संयंत्रों को लागू करने और स्थापित करने के लिए भारतभर में अन्य राज्यों की नगर पालिकाओं के साथ भी चर्चा कर रही है।

ब्रॉडकास्ट इंजीनियरिंग कंसल्टेंट्स इंडिया लिमिटेड (बीईसीआईएल), भारत सरकार का एक केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उद्यम, परियोजना प्रबंधन के बारे में परामर्श प्रदान करेगा और द ग्रीनबिलियंस लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी वेरिएट पुणे वेस्ट टू एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड, पुणे की नगरपालिका पुनर्चक्रण योग्य कचरे को हाइड्रोजन में परिवर्तित करने के लिए परियोजना लागू करेगी।

कचरे से प्राप्त अपशिष्ट ईंधन (आरडीएफ) का बाद में प्लाज्मा गैसीकरण प्रौद्योगिकी का उपयोग करके हाइड्रोजन उत्पन्न करने के लिए उपयोग किया जाएगा। भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (बीएआरसी) और भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु के साथ मिलकर तकनीक विकसित की गई है।

महात्मा फुले रिन्यूएबल एनर्जी एंड इंफ्रास्ट्रक्चर टेक्नोलॉजी (एमएएचएपीआरआईटी), महाराष्ट्र सरकार का एक उपक्रम है, जिसने इस संयंत्र में उत्पन्न हाइड्रोजन को हटाने और इसके लिए उद्योगों को हाइड्रोजन परिवहन के लिए लॉजिस्टिक इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने का प्रस्ताव दिया है।

परियोजना के पहले चरण के लिए एमएएचएपीआरआईटी ने महाराष्ट्र प्राकृतिक गैस लिमिटेड - गेल (NS:GAIL) (इंडिया) लिमिटेड और भारत पेट्रोलियम (NS:BPCL) कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) के संयुक्त उद्यम के साथ साझेदारी करके पुणे में शहर के गैस वितरण नेटवर्क में सम्मिश्रण का प्रस्ताव रखा है।

एमएएचएपीआरआईटी और गेल के संयुक्त प्रयास प्रस्तावित हाइड्रोजन सम्मिश्रण परियोजना को शहर के कचरे से उत्पन्न हाइड्रोजन के साथ एक परिपत्र अर्थव्यवस्था के लिए एक बेंचमार्क सेट करने में मदद कर सकते हैं और इसके गैस वितरण नेटवर्क में फिर से मिश्रित हो सकते हैं।

द ग्रीनबिलियंस लिमिटेड के पीएचडी, चेयरमैन और संस्थापक प्रतीक कनकिया अनुसार : बढ़ती भारतीय अर्थव्यवस्था सभी क्षेत्रों से ऊर्जा की मांग में वृद्धि देख रही है। बढ़ती मांग पूरी करने के लिए स्थिति ने भारतीय ऊर्जा भंडार पर बहुत दबाव डाला है। इसने वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों की पहचान करने और विकसित करने पर ध्यान केंद्रित किया है, मुख्य रूप से हरित और स्वच्छ स्रोत, जो पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं।

स्वच्छ हाइड्रोजन उत्पन्न करने के लिए नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) की बढ़ती मांग के साथ देश में स्वच्छ हाइड्रोजन को बढ़ावा देने के लिए विकल्प खोजना जरूरी है। हम मानते हैं कि कुशल कचरा संग्रह और ठोस कचरा प्रबंधन प्रणाली गुणवत्तापूर्ण शहरों के लिए महत्वपूर्ण है। विशेष रूप से भारत के कई शहरों में अस्थिर कचरा प्रबंधन रहने की जगह को प्रभावित करता है। पुणे नगर निगम के साथ हमारा जुड़ाव इन मांगों को कम करने की दिशा में एक कदम आगे है।

ब्रॉडकास्ट इंजीनियरिंग कंसल्टेंट्स इंडिया लिमिटेड (बीईसीआइएल) ने एक आधिकारिक बयान में कहा है : इस परियोजना के साथ पुणे शहर 2.5 मिलियन मीट्रिक टन सीओ2ई तक कम कर सकता है, 3.8 मिलियन मीट्रिक टन से अधिक कचरे को लैंडफिल से हटा दिया जाएगा और लगभग 1,80,000 अनुमानित घरों को नगर ठोस अपशिष्ट (एमएसडब्ल्यू) अन्यथा निचले शहरी क्षेत्रों में डंप किया जा रहा है, इससे हर दिन 689.5 घन मीटर जगह और प्रतिवर्ष 25.16 हेक्टेयर कीमती भूमि की बचत होगी।

इस कचरे में बायोडिग्रेडेबल, नॉन-बायोडिग्रेडेबल और घरेलू खतरनाक कचरा शामिल होगा और ऑप्टिकल सेंसर तकनीक का उपयोग करके पुणे स्थित द ग्रीनबिलियंस के संयंत्र में अलग किया जाएगा।

संयंत्र से गीले कचरे का उपयोग ह्यूमिक-एसिड समृद्ध जैव-उर्वरक उत्पन्न करने के लिए किया जाएगा, जिन्हें परंपरागत जैव-उर्वरकों से बेहतर माना जाता है और कार्बन उत्सर्जन कम होता है।

इस परियोजना का उद्देश्य कचरे से हाइड्रोजन उत्पादन की तकनीकी और वित्तीय व्यवहार्यता को प्रदर्शित करना है।

हाइड्रोजन अपनाने पर भारत सरकार की इस तरह की परियोजनाएं न केवल भारत को डीकाबोर्नाइजेशन लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करेंगी, बल्कि अपशिष्ट निपटान से महत्वपूर्ण उत्सर्जन को भी कम करेंगी।

एक बार हासिल हो जाने के बाद लक्ष्य भारत को स्वच्छ भारत के दृष्टिकोण को प्राप्त करने में मदद करेंगे और हाइड्रोजन महत्वाकांक्षाओं से भी मेल खाएंगे।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

नवीनतम टिप्पणियाँ

हमारा ऐप इंस्टॉल करें
जोखिम प्रकटीकरण: वित्तीय उपकरण एवं/या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेडिंग में आपके निवेश की राशि के कुछ, या सभी को खोने का जोखिम शामिल है, और सभी निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है। क्रिप्टो करेंसी की कीमत काफी अस्थिर होती है एवं वित्तीय, नियामक या राजनैतिक घटनाओं जैसे बाहरी कारकों से प्रभावित हो सकती है। मार्जिन पर ट्रेडिंग से वित्तीय जोखिम में वृद्धि होती है।
वित्तीय उपकरण या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेड करने का निर्णय लेने से पहले आपको वित्तीय बाज़ारों में ट्रेडिंग से जुड़े जोखिमों एवं खर्चों की पूरी जानकारी होनी चाहिए, आपको अपने निवेश लक्ष्यों, अनुभव के स्तर एवं जोखिम के परिमाण पर सावधानी से विचार करना चाहिए, एवं जहां आवश्यकता हो वहाँ पेशेवर सलाह लेनी चाहिए।
फ्यूज़न मीडिया आपको याद दिलाना चाहता है कि इस वेबसाइट में मौजूद डेटा पूर्ण रूप से रियल टाइम एवं सटीक नहीं है। वेबसाइट पर मौजूद डेटा और मूल्य पूर्ण रूप से किसी बाज़ार या एक्सचेंज द्वारा नहीं दिए गए हैं, बल्कि बाज़ार निर्माताओं द्वारा भी दिए गए हो सकते हैं, एवं अतः कीमतों का सटीक ना होना एवं किसी भी बाज़ार में असल कीमत से भिन्न होने का अर्थ है कि कीमतें परिचायक हैं एवं ट्रेडिंग उद्देश्यों के लिए उपयुक्त नहीं है। फ्यूज़न मीडिया एवं इस वेबसाइट में दिए गए डेटा का कोई भी प्रदाता आपकी ट्रेडिंग के फलस्वरूप हुए नुकसान या हानि, अथवा इस वेबसाइट में दी गयी जानकारी पर आपके विश्वास के लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं होगा।
फ्यूज़न मीडिया एवं/या डेटा प्रदाता की स्पष्ट पूर्व लिखित अनुमति के बिना इस वेबसाइट में मौजूद डेटा का प्रयोग, संचय, पुनरुत्पादन, प्रदर्शन, संशोधन, प्रेषण या वितरण करना निषिद्ध है। सभी बौद्धिक संपत्ति अधिकार प्रदाताओं एवं/या इस वेबसाइट में मौजूद डेटा प्रदान करने वाले एक्सचेंज द्वारा आरक्षित हैं।
फ्यूज़न मीडिया को विज्ञापनों या विज्ञापनदाताओं के साथ हुई आपकी बातचीत के आधार पर वेबसाइट पर आने वाले विज्ञापनों के लिए मुआवज़ा दिया जा सकता है।
इस समझौते का अंग्रेजी संस्करण मुख्य संस्करण है, जो अंग्रेजी संस्करण और हिंदी संस्करण के बीच विसंगति होने पर प्रभावी होता है।
© 2007-2024 - फ्यूजन मीडिया लिमिटेड सर्वाधिकार सुरक्षित