40% की छूट पाएं
नया! 💥 प्राप्त करें प्रोपिक्स जो रणनीति देखने के लिए जिसने S&P 500 को 1,183%+ से हराया है40% की छूट क्लेम करें

90 प्रतिशत भारतीय युवतियाँ आयरन की कमी से पीड़ित: डॉक्टर

प्रकाशित 25/02/2024, 07:33 pm
अपडेटेड 25/02/2024, 02:15 pm
90 प्रतिशत भारतीय युवतियाँ आयरन की कमी से पीड़ित: डॉक्टर

नई दिल्ली, 25 फरवरी (आईएएनएस)। डॉक्टरों ने रविवार को कहा कि युवतियों में आयरन की कमी एक व्यापक समस्या है, जिससे देश में लगभग 90 प्रतिशत महिलाएं प्रभावित हैं, और इस स्थिति का समय पर पता लगाना जरूरी है।कई महिलाओं को इसका अहसास भी नहीं होता कि् कब उनके शरीर में आयरन का स्तर कम हो गया। इसके लिए वे अक्सर थकान और कमजोरी जैसे लक्षणों के लिए अन्य कारणों को जिम्मेदार ठहराती हैं।

आयरन की कमी एक सामान्य पोषण संबंधी कमी है जो तब होती है जब शरीर में अपने कार्यों के लिए पर्याप्त आयरन नहीं होता है।

यह आवश्यक खनिज पूरे शरीर में ऑक्सीजन के परिवहन, स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं को बनाए रखने और समग्र ऊर्जा स्तर का समर्थन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

पर्याप्त आयरन के बिना, व्यक्तियों को थकान, कमजोरी, सांस लेने में तकलीफ और बिगड़ा हुआ संज्ञानात्मक कार्य अनुभव हो सकता है।

अपोलो डायग्नोस्टिक्स के राष्ट्रीय तकनीकी प्रमुख और मुख्य रोगविज्ञानी डॉ. राजेश बेंद्रे ने आईएएऩएक को बताया, "युवा महिलाओं में आयरन की कमी एक बढ़ती हुई चिंता है जिसे अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है। स्वस्थ भोजन और पूरकता को बढ़ावा देने के प्रयासों के बावजूद 90 प्रतिशत युवा महिलाएं अभी भी अपर्याप्त आयरन के स्तर से जूझ रही हैं।"

उन्होंने कहा कि महिलाओं में आयरन की कमी बढ़ने के पीछे मासिक धर्म में खून की कमी, प्रतिबंधात्मक आहार और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों पर भारी निर्भरता जैसे कारक हैं।

इसके अलावा डॉक्टर ने कहा कि आयरन युक्त खाद्य स्रोतों और आहार संबंधी आवश्यकताओं के बारे में शिक्षा की कमी समस्या को बढ़ा देती है।

उन्होंने कहा, "आयरन के पर्याप्त स्तर को बनाए रखने के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और उचित पोषण शिक्षा के लिए सुलभ संसाधन उपलब्ध कराना महत्वपूर्ण है।"

विशेषज्ञ ने कहा, कई गर्भवती महिलाएं भी आयरन की कमी से पीड़ित होती हैं, जिससे कम हीमोग्लोबिन, एनीमिया और इससे जुड़े लक्षण जैसी कमजोरी, सांस लेने में तकलीफ और पीली त्वचा होती है।

डॉ. बेंद्रे ने कहा, “कई गर्भवती महिलाओं में आयरन की कमी एक गंभीर चिंता का विषय है जिसके दूरगामी परिणाम हो सकते हैं। एनीमिया और थकान जैसे मां के तत्काल स्वास्थ्य जोखिमों के अलावा, गर्भावस्था के दौरान आयरन की कमी भी भ्रूण के विकास में बाधा बन सकती है। गर्भवती माताओं में अपर्याप्त आयरन के स्तर से समय से पहले जन्म और जन्म के समय कम वजन का खतरा बढ़ सकता है, जो बच्चे के दीर्घकालिक स्वास्थ्य और संज्ञानात्मक विकास को प्रभावित कर सकता है।

गर्भवती महिलाओं में आयरन की कमी को दूर करने के लिए केवल आयरन की गोलियाँ देना ही काफी नहीं है। विशेषज्ञों को महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान उनके आयरन के स्तर की निगरानी के लिए नियमित प्रसव पूर्व जांच के महत्व के बारे में शिक्षित करना चाहिए, ताकि आयरन की कमी होने पर समय पर हस्तक्षेप किया जा सके।

लीलावती अस्पताल के हिमेटोलॉजिस्ट डॉ. अभय भावे ने आईएएनएस को बताया, "एनीमिया सबसे व्यापक सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है और इसके महत्वपूर्ण स्वास्थ्य और कल्याण, सामाजिक और आर्थिक परिणाम हैं। इनमें काम पर कम घंटे, खराब एकाग्रता और कम आत्मसम्मान शामिल हैं, जिससे विकास में कमी आती है और गंभीर मामलों में मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है- खासकर गर्भवती रोगियों में प्रसव के समय। लगभग 50 से 60 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं में आयरन की कमी पाई जाती है।"

हमारी आबादी में एनीमिया की घटनाएँ अधिक हैं, विशेषकर छात्र और विवाह योग्य आयु वर्ग में।

"आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया के भयावह कारण आंतों में भयावह कारण हो सकते हैं जिनमें दुर्लभ घातक रोग या कुअवशोषण सिंड्रोम शामिल हैं, जिनकी पुनरावृत्ति को रोकने के लिए एक अलग तरह के उपचार की आवश्यकता होगी। एनीमिया के अन्य कारण भी हैं जैसे विटामिन बी12 और फोलिक एसिड की कमी, हड्डी की मज्जा में खराब उत्पादन, और अत्यधिक विनाश।"

अपोलो स्पेक्ट्रा मुंबई की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. केकिन गाला के अनुसार, थकान और सामान्य कमजोरी अक्सर आयरन की कमी की ओर इशारा करते हैं।

गाला ने कहा, "आपके मासिक धर्म चक्र पर ध्यान देना भी निदान में महत्वपूर्ण हो सकता है, क्योंकि भारी मासिक धर्म से बाद में आयरन की कमी हो सकती है। इसके लिए स्क्रीनिंग परीक्षणों में पूर्ण रक्त गणना (सीबीसी), और सीरम फेरिटिन और ट्रांसफ़रिन संतृप्ति जैसे अतिरिक्त परीक्षण शामिल हैं।"

पूरक आहार के अलावा, गाला ने दैनिक आहार में पालक और दाल जैसे आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करने की आवश्यकता पर जोर दिया, ताकि स्वाभाविक रूप से आयरन के स्तर को फिर से बढ़ाने में मदद मिल सके और साथ ही समग्र पोषण में भी सुधार हो सके।

--आईएएनएस

एकेजे/

नवीनतम टिप्पणियाँ

हमारा ऐप इंस्टॉल करें
जोखिम प्रकटीकरण: वित्तीय उपकरण एवं/या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेडिंग में आपके निवेश की राशि के कुछ, या सभी को खोने का जोखिम शामिल है, और सभी निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है। क्रिप्टो करेंसी की कीमत काफी अस्थिर होती है एवं वित्तीय, नियामक या राजनैतिक घटनाओं जैसे बाहरी कारकों से प्रभावित हो सकती है। मार्जिन पर ट्रेडिंग से वित्तीय जोखिम में वृद्धि होती है।
वित्तीय उपकरण या क्रिप्टो करेंसी में ट्रेड करने का निर्णय लेने से पहले आपको वित्तीय बाज़ारों में ट्रेडिंग से जुड़े जोखिमों एवं खर्चों की पूरी जानकारी होनी चाहिए, आपको अपने निवेश लक्ष्यों, अनुभव के स्तर एवं जोखिम के परिमाण पर सावधानी से विचार करना चाहिए, एवं जहां आवश्यकता हो वहाँ पेशेवर सलाह लेनी चाहिए।
फ्यूज़न मीडिया आपको याद दिलाना चाहता है कि इस वेबसाइट में मौजूद डेटा पूर्ण रूप से रियल टाइम एवं सटीक नहीं है। वेबसाइट पर मौजूद डेटा और मूल्य पूर्ण रूप से किसी बाज़ार या एक्सचेंज द्वारा नहीं दिए गए हैं, बल्कि बाज़ार निर्माताओं द्वारा भी दिए गए हो सकते हैं, एवं अतः कीमतों का सटीक ना होना एवं किसी भी बाज़ार में असल कीमत से भिन्न होने का अर्थ है कि कीमतें परिचायक हैं एवं ट्रेडिंग उद्देश्यों के लिए उपयुक्त नहीं है। फ्यूज़न मीडिया एवं इस वेबसाइट में दिए गए डेटा का कोई भी प्रदाता आपकी ट्रेडिंग के फलस्वरूप हुए नुकसान या हानि, अथवा इस वेबसाइट में दी गयी जानकारी पर आपके विश्वास के लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं होगा।
फ्यूज़न मीडिया एवं/या डेटा प्रदाता की स्पष्ट पूर्व लिखित अनुमति के बिना इस वेबसाइट में मौजूद डेटा का प्रयोग, संचय, पुनरुत्पादन, प्रदर्शन, संशोधन, प्रेषण या वितरण करना निषिद्ध है। सभी बौद्धिक संपत्ति अधिकार प्रदाताओं एवं/या इस वेबसाइट में मौजूद डेटा प्रदान करने वाले एक्सचेंज द्वारा आरक्षित हैं।
फ्यूज़न मीडिया को विज्ञापनों या विज्ञापनदाताओं के साथ हुई आपकी बातचीत के आधार पर वेबसाइट पर आने वाले विज्ञापनों के लिए मुआवज़ा दिया जा सकता है।
इस समझौते का अंग्रेजी संस्करण मुख्य संस्करण है, जो अंग्रेजी संस्करण और हिंदी संस्करण के बीच विसंगति होने पर प्रभावी होता है।
© 2007-2024 - फ्यूजन मीडिया लिमिटेड सर्वाधिकार सुरक्षित