FDC Ltd. (FDC)

249.35
+2.25(+0.91%)
  • वॉल्यूम:
    62,625
  • बोली/पुछे:
    0.00/0.00
  • दिन की रेंज:
    246.25 - 253.35
  • प्रकार:इक्विटी
  • बाज़ार:भारत
  • आईसआईन:INE258B01022
  • एस/न:FDC

FDC समीक्षा

पिछला बंद
247.1
दिन की रेंज
246.25-253.35
आय
15B
खुला
248.45
52 सप्ताह रेंज
243-404.9
ईपीएस
14.92
वॉल्यूम
62,625
मार्केट कैप
41.35B
लाभांश (यील्ड)
N/A
(N/A)
औसत वॉल्यूम (3एम)
144,867
पी/ई अनुपात
16.72
बीटा
0.63
1- वर्ष बदलाव
-29.64%
बकाया शेयर
165,910,084
अगली कमाई तिथि
24 मई 2022
एफडीसी पर आपकी भावना क्या है?
या
अभी बाज़ार बंद हैं। वोटिंग बाजार का समय के दौरान खुली है।

एफडीसी विश्लेषण

  • सप्ताह के लिए शीर्ष स्टॉक पिक्स

    भारतीय बाजारों में अब एक महीने से अधिक समय से सीमाबद्ध उतार-चढ़ाव देखा गया है। हालांकि, आगे चलकर हम तिमाही परिणामों के आधार पर मजबूत गति देख सकते हैं जो बेंचमार्क इंडेक्स को 16,000...

एफडीसी कंपनी प्रोफाइल

एफडीसी कंपनी प्रोफाइल

कर्मचारी
5519
बाज़ार
भारत

FDC Limited manufactures and markets pharmaceutical products in India and internationally. The company offers specialized formulations for various therapeutic segments, including anti-infective, gastrointestinal, ophthalmological, vitamins/minerals/dietary supplements, cardiac, anti-diabetes, respiratory, gynecology, dermatology, analgesics, and others; and oral rehydration salts. It provides specialized formulations primarily under the Zifi, Electral, Enerzal, Vitcofol, Pyrimon, Zocon, Zoxan, Zathrin, Zipod, Zefu, Cotaryl, and Mycoderm brand names. The company also offers anti-oxidants, balanced energy drinks, and vitamins and nutraceuticals under the Enerzal, Humyl, Mum Mum 1, Prosoyal, Simyl-LBW, Simyl-MCT, and Zefrich brands. In addition, it provides various active pharmaceutical ingredients. FDC Limited was founded in 1936 and is headquartered in Mumbai, India.

और पढ़ें

तकनीकी सारांश

प्रकार
5 मिनट
15 मिनट
प्रति घंटा
दैनिक
मासिक
मूविंग एवरेजबेचनामजबूत विक्रयमजबूत विक्रयबेचनाबेचना
तकनीकी संकेतकमजबूत विक्रयमजबूत विक्रयखरीदेंमजबूत विक्रयमजबूत विक्रय
सारांशमजबूत विक्रयमजबूत विक्रयतटस्थमजबूत विक्रयमजबूत विक्रय
  • fdc ka share bhrose ke shath bad rha he abhi girne ka kya kaaran he
    0